इलाज़ – हाई ब्‍लड प्रेशर के लिए घरेलू नुस्‍खे


हाई ब्‍लड प्रेशर के लिए घरेलू नुस्‍खे ——-
______________________________________________________

हाई ब्‍लड प्रेशर आजकल सामान्‍य हो चला है। इसकी बड़ी वजह अनियमित दिनचर्या और आधुनिक जीवन शैली है। ग्रामीण इलाकों की तुलना में शहरी लोग अधिक तेजी से इसके शिकार हो रहे हैं।

हाई ब्लड प्रेशर में चक्कर आने लगते हैं, सिर घूमने लगता है। रोगी का किसी काम में मन नहीं लगता। उसमें शारीरिक काम करने की क्षमता नहीं रहती और रोगी अनिद्रा का शिकार रहता है। इस रोग का घरेलू उपचार भी संभव है, जिनके सावधानीपूर्वक इस्तेमाल करने से बिना दवाई लिए इस भयंकर बीमारी पर पूर्णत: नियंत्रण पाया जा सकता है। जरूरत है संयमपूर्वक नियम पालन की। आइए जानें हाई ब्लड प्रेशर के लिए घरेलू उपाय।

हाई ब्लड प्रेशर के लिए घरेलू उपाय –

1) नमक ब्लड प्रेशर बढाने वाला प्रमुख कारक है। इसलिए यह बात सबसे महत्‍वपूर्ण है कि हाई बी पी वालों को नमक का प्रयोग कम कर देना चाहिए।
2) उच्च रक्तचाप का एक प्रमुख कारण होता है रक्त का गाढा होना। रक्त गाढा होने से उसका प्रवाह धीमा हो जाता है। इससे धमनियों और शिराओं में दवाब बढ जाता है। लहसुन ब्लड प्रेशर ठीक करने में बहुत मददगार घरेलू उपाय है। यह रक्त का थक्का नहीं जमने देती है। धमनी की कठोरता में लाभदायक है। रक्त में ज्यादा कोलेस्ट्ररोल होने की स्थिति का समाधान करती है।
3) एक बडा चम्मच आंवले का रस और इतना ही शहद मिलाकर सुबह-शाम लेने से हाई ब्लड प्रेशर में लाभ होता है।

4) जब ब्लड प्रेशर बढा हुआ हो तो आधा गिलास मामूली गर्म पानी में काली मिर्च पाउडर एक चम्मच घोलकर 2-2 घंटे के फ़ासले से पीते रहें। ब्लड प्रेशर सही करने का बढिया उपचार है।
5) तरबूज के बीज की गिरि तथा खसखस अलग-अलग पीसकर बराबर मात्रा में मिलाकर रख लें। एक चम्मच मात्रा में प्रतिदिन खाली पेट पानी के साथ लें।
6) बढे हुए ब्लड प्रेशर को जल्दी कंट्रोल करने के लिये आधा गिलास पानी में आधा नींबू निचोड़कर 2-2 घंटे के अंतर से पीते रहें। हितकारी उपचार है।
7) पांच तुलसी के पत्ते तथा दो नीम की पत्तियों को पीसकर 20 ग्राम पानी में घोलकर खाली पेट सुबह पिएं। 15 दिन में लाभ नजर आने लगेगा।
8) हाई ब्लडप्रेशर के मरीजों के लिए पपीता भी बहुत लाभ करता है, इसे प्रतिदिन खाली पेट चबा-चबाकर खाएं।
9) नंगे पैर हरी घास पर 10-15 मिनट चलें। रोजाना चलने से ब्लड प्रेशर नार्मल हो जाता है।
10) सौंफ़, जीरा, शक्‍कर तीनों बराबर मात्रा में लेकर पाउडर बना लें। एक गिलास पानी में एक चम्मच मिश्रण घोलकर सुबह-शाम पीते रहें।

11) पालक और गाजर का रस मिलाकर एक गिलास रस सुबह-शाम पीयें, लाभ होगा।
12) करेला और सहजन की फ़ली उच्च रक्त चाप-रोगी के लिये परम हितकारी हैं।
13) गेहूं व चने के आटे को बराबर मात्रा में लेकर बनाई गई रोटी खूब चबा-चबाकर खाएं, आटे से चोकर न निकालें।
14) ब्राउन चावल उपयोग में लाए। इसमें नमक, कोलेस्टरोल और चर्बी नाम मात्र की होती है। यह उच्च रक्त चाप रोगी के लिये बहुत ही लाभदायक भोजन है।
15) प्याज और लहसुन की तरह अदरक भी काफी फायदेमंद होता है। बुरा कोलेस्ट्रोल धमनियों की दीवारों पर प्लेक यानी कि कैल्‍शियम युक्त मैल पैदा करता है जिससे रक्त के प्रवाह में अवरोध खड़ा हो जाता है और नतीजा उच्च रक्तचाप के रूप में सामने आता है। अदरक में बहुत हीं ताकतवर एंटीओक्सीडेट्स होते हैं जो कि बुरे कोलेस्ट्रोल को नीचे लाने में काफी असरदार होते हैं। अदरक से आपके रक्तसंचार में भी सुधार होता है, धमनियों के आसपास की मांसपेशियों को भी आराम मिलता है जिससे कि उच्च रक्तचाप नीचे आ जाता है।
16) तीन ग्राम मेथीदाना पावडर सुबह-शाम पानी के साथ लें। इसे पंद्रह दिनों तक लेने से लाभ मालूम होता है

Advertisements

Sri Sri – FIVE TYPES OF QUESTIONS

FIVE TYPES OF QUESTIONS

APRIL 29, 2013
The spark behind every great discovery that has taken place on this planet has been the spirit of inquiry  When that inquiry is directed outwards – “What is this? How does it happen?” it is science and when it is directed inwards – “Who am I? What am I here for? What do I really want?” it is spirituality.
Even though the number of possible questions that can be asked is huge, there are really only five types of questions.
  1. Out of misery: Many times people ask questions when they are feeling miserable. They are usually of the nature “Why did this happen to me?”, “What did I do to deserve this?” etc. When you see someone asking a question out of pain, just listen to them. They just want somebody to hear them out. They are not really looking for an answer.
  2. Out of anger: “I did nothing wrong. I was right. Why am I being blamed? Why is this happening?” This is the kind of questions that arise out of anger. Here also, the person is caught in the whirlpool of their feelings and emotions and they want to justify them by asking such questions. When somebody is in such a volatile state of mind, no matter what answer you give, it doesn’t go in. On the contrary, it gives rise to more questions and justifications.
  3. To draw attention: Some people ask questions just to show everyone that they are also there. Their satisfaction lies in asking the question so that everybody notices them rather than finding the answer.
  4. To test: There are some who ask questions to test if the other person knows. They already have an answer in their mind and want to compare if the other’s answer matches with theirs.
  5. With sincerity: The fifth type of questions is asked by people who sincerely want to know something and have faith that the person they are asking knows and will tell them. It is only this type of question that should be answered.
Most of the ancient scriptures — whether it is the Bhagvad Gita, Yoga Vasishtha, Ashtavakra Gita, Tripura Rahasya or the Upanishads, begin with a question. The questions that have been asked here are not merely out of curiosity but also with a sense of closeness. Upanishad itself means sitting close to the Master, not just physically but feeling close to the Master. Knowledge needs an atmosphere of belongingness to flourish. The closer you feel to the Master, the more knowledge unfolds by itself.

Sri Sri Ravi Shankar Views on RAM NAVMI

Q. How can I balance peace while fighting for justice?
Sri Sri Ravi Shankar: That is the whole essence of The Bhagavat Gita. Be calm from the inside and act whenever required. You should stand up and fight if necessary; but don’t keep the fight inside yourself. Usually we fight inside and keep quiet on the outside. We should do the opposite. With meditation, it becomes easy to bring about this change. The power of satva and the power of meditation make it easy.
Today is Shri Ramanavami (Lord Rama’s Birthday). Ra means radiance, Ma means myself. Rama means ‘the light inside me’. Rama was born to Dasharath and Kousalya. Dasharath means ‘Ten Chariots’. The ten chariots symbolize  the five organs of perception (the five senses) and five organs of knowledge and action (For instance: reproduction, legs, hands and so on). Kousalya means ‘skill’. Ayodhya means ‘a society in which there is no violence’. If you skillfully observe what goes on inside the body, light dawns inside you. That is meditation. You need some skill to relax the tension. Then you  start expanding.
You know you are here now, yet you are not. With this realization, there is a certain lightness that comes spontaneously. Rama is when the inner light shines through. Sita the mind/intellect was robbed by the ego, Ravana. Ravana had ten heads. Ravana (ego) was one who wouldn’t listen to others. He was too much in the head. Hanuman means breath. With the help of Hanuman (the breath), Sita (the mind) was able to go back to Rama (the source).
Ramayana happened around 7,500 years ago. It had an impact on Germany and many other countries in Europe and  Far East. Thousands of cities are named after Rama. Cities like Rambaugh in Germany, Rome in Italy have their roots in the word Ram. Indonesia, Bali and Japan were all influenced by Ramayana. Though Ramayana is history, it is also an eternal phenomenon happening all the time.

Q. What are the qualities that  the Master wants to see in an ideal devotee?
Sri Sri Ravi Shankar: None. If I name a quality, you will all try to emulate that quality. Just be your natural self. Be honest. Even if you miss a meditation one day, don’t feel guilty about it. Time is carrying you. All the good qualities you aspire for, you have them anyway. You are here and you are doing the right thing.
You can purify your body by following a proper diet. It’s good to fast for two-three days in a year. Fast on only juices. But if your system disagrees with it, don’t do it. You should listen to your body.
Mind is purified through pranayama and Sudarshan Kriya.
Intellect is purified through knowledge.
Emotions are purified through bhajans.
Actions are purified through seva.
Money is purified through charity.
You should donate at least two to three percent of your income.

Q.  What is your vision for The Art of Living in the coming years?
Sri Sri Ravi Shankar: I have started it. My job is done. It’s up to you now. You have a vision, so take it where you want to take it. , We are celebrating 30 years of The Art of Living in Germany. We’ll be in the same Olympic stadium that Hitler built 75 years ago. He started the war from there. From the same place where war started, we’ll spread the message of peace.
Q. Why has religion been the reason for so many wars?
Sri Sri Ravi Shankar: Even I wonder about it. There are 10 major religions in the world: four from the Middle East and six from the Far East. The six religions from the Far East never had any conflicts. There was no war between these six religions. Hinduism, Buddhism, Sikhism, Jainism, Shintoism and Taoism – they all coexisted.
When President Nixon went to Japan, he had a Shinto priest on one side and a Buddhist priest on the other side. He asked the Shinto priest: What is the percentage of Shintos in Japan? The priest said: 80 percent. Then he turned to the Buddhist priest and asked him: What is the percentage of Buddhists in Japan? He said: 80 percent. Nixon was perplexed as to how this was possible. Shintos go to Buddhist temples and Buddhists go to Shinto temples. Similarly, Hindus go to Sikh gurudwaras and Sikhs go to Hindu temples. The same may be said of Hindus and Buddhists in India. Similarly in China, there is no war between Taoists and Buddhists.
The four religions in the Middle East were always at war. I think they should learn how to co-exist from the other six. Judaism and Christianity are friendly. Judaism and Islam have an issue.





संस्कृति – हनुमान जी के विवाह का रहस्य…(Secret of Hanuman ji’s Marriage)


हनुमान जी के विवाह का रहस्य…

संकट मोचन हनुमान जी के ब्रह्मचारी रूप से तो सभी परिचित हैं..
उन्हें बाल ब्रम्हचारी भी कहा जाता है…

लेकिन क्या अपने कभी सुना है की हनुमान जी का विवाह भी हुआ था ??

और उनका उनकी पत्नी के साथ एक मंदिर भी है ??
जिसके दर्शन के लिए दूर दूर से लोग आते हैं..

कहा जाता है कि हनुमान जी के उनकी पत्नी के साथ दर्शन करने के बाद घर मे चल रहे पति पत्नी के बीच के सारे तनाव खत्म हो जाते हैं.

आन्ध्र प्रदेश के खम्मम जिले में बना हनुमान जी का यह मंदिर काफी मायनों में ख़ास है..

ख़ास इसलिए की यहाँ हनुमान जी अपने ब्रम्हचारी रूप में नहीं बल्कि गृहस्थ रूप में अपनी पत्नी सुवर्चला के साथ विराजमान है.

हनुमान जी के सभी भक्त यही मानते आये हैं की वे बाल ब्रह्मचारी थे.
और बाल्मीकि, कम्भ, सहित किसी भी रामायण और रामचरित मानस में बालाजी के इसी रूप का वर्णन मिलता है..

लेकिन पराशर संहिता में हनुमान जी के विवाह का उल्लेख है.

इसका सबूत है आंध्र प्रदेश के खम्मम ज़िले में बना एक खास मंदिर जो प्रमाण है हनुमान जी की शादी का।

ये मंदिर याद दिलाता है रामदूत के उस चरित्र का जब उन्हें विवाह के बंधन में बंधना पड़ा था।
लेकिन इसका ये अर्थ नहीं कि भगवान हनुमान जी बाल ब्रह्मचारी नहीं थे।

पवनपुत्र का विवाह भी हुआ था और वो बाल ब्रह्मचारी भी थे।

कुछ विशेष परिस्थियों के कारण ही बजरंगबली को सुवर्चला के साथ विवाह बंधन मे बंधना पड़ा।

हनुमान जी ने भगवान सूर्य को अपना गुरु बनाया था।
हनुमान, सूर्य से अपनी शिक्षा ग्रहण कर रहे थे…

सूर्य कहीं रुक नहीं सकते थे इसलिए हनुमान जी को सारा दिन भगवान सूर्य के रथ के साथ साथ उड़ना पड़ता और भगवान सूर्य उन्हें तरह-तरह की विद्याओं का ज्ञान देते।

लेकिन हनुमान जी को ज्ञान देते समय सूर्य के सामने एक दिन धर्मसंकट खड़ा हो गया।

कुल ९ तरह की विद्या में से हनुमान जी को उनके गुरु ने पांच तरह की विद्या तो सिखा दी लेकिन बची चार तरह की विद्या और ज्ञान ऐसे थे जो केवल किसी विवाहित को ही सिखाए जा सकते थे.

हनुमान जी पूरी शिक्षा लेने का प्रण कर चुके थे और इससे कम पर वो मानने को राजी नहीं थे।

इधर भगवान सूर्य के सामने संकट था कि वो धर्म के अनुशासन के कारण किसी अविवाहित को कुछ विशेष विद्याएं नहीं सिखला सकते थे।

ऐसी स्थिति में सूर्य देव ने हनुमान जी को विवाह की सलाह दी..

और अपने प्रण को पूरा करने के लिए हनुमान जी भी विवाह सूत्र में बंधकर शिक्षा ग्रहण करने को तैयार हो गए।

लेकिन हनुमान जी के लिए दुल्हन कौन हो और कहा से वह मिलेगी इसे लेकर सभी चिंतित थे..

ऐसे में सूर्यदेव ने अपने शिष्य हनुमान जी को राह दिखलाई।
सूर्य देव ने अपनी परम तपस्वी और तेजस्वी पुत्री सुवर्चला को हनुमान जी के साथ शादी के लिए तैयार कर लिया।

इसके बाद हनुमान जी ने अपनी शिक्षा पूर्ण की और सुवर्चला सदा के लिए अपनी तपस्या में रत हो गई।

इस तरह हनुमान जी भले ही शादी के बंधन में बांध गए हो लेकिन शाररिक रूप से वे आज भी एक ब्रह्मचारी ही हैं.

पराशर संहिता में तो लिखा गया है की खुद सूर्यदेव ने इस शादी पर यह कहा की – यह शादी ब्रह्मांड के कल्याण के लिए ही हुई है और इससे हनुमान जी का ब्रह्मचर्य भी प्रभावित नहीं हुआ .. , , ,

|| जय श्री राम ||

http://en.wikipedia.org/wiki/Hanuman

संस्कृति – गायत्री मन्त्र का वैज्ञानिक आधार



                 “गायत्री मन्त्र का वैज्ञानिक आधार “



गायत्री मन्त्र का अर्थ है उस परम सत्ता की महानता की स्तुति जिसने 

इस ब्रह्माण्ड को रचा है । यह मन्त्र उस ईश्वरीय सत्ता की स्तुति है जो 

इस संसार में ज्ञान और और जीवन का स्त्रोत है, जो अँधेरे से प्रकाश का 

पथ दिखाती है । गायत्री मंत्र लोकप्रिय यूनिवर्सल मंत्र के रूप में जाना 

जाता है. के रूप में मंत्र किसी भी धर्म या एक देश के लिए नहीं है, यह 

पूरे ब्रह्मांड के अंतर्गत आता है। यह अज्ञान को हटा कर ज्ञान प्राप्ति की 

स्तुति है ।

मन्त्र विज्ञान के ज्ञाता अच्छी तरह से जानते हैं कि शब्द, 

मुख के विभिन्न अंगों जैसे जिह्वा, गला, दांत, होठ और जिह्वा के 

मूलाधार की सहायता से उच्चारित होते हैं । 

शब्द उच्चारण के समय 

मुख की सूक्ष्म ग्रंथियों और तंत्रिकाओं में खिंचाव उत्पन्न होता है जो 

शरीर के विभिन्न अंगों से जुडी हुई हैं । योगी इस बात को भली प्रकार 

से जानते हैं कि मानव शरीर में संकड़ों दृश्य -अदृश्य ग्रंथियां होती है 

जिनमे अलग अलग प्रकार की अपरिमित उर्जा छिपी है । 

अतः मुख से 

उच्चारित हर अच्छे और बुरा शब्द का प्रभाव अपने ही शरीर पर पड़ता है 

। पवित्र वैदिक मंत्रो को मनुष्य के आत्मोत्थान के लिए इन्ही नाड़ियों 

पर पड़ने वाले प्रभाव के अनुसार रचा गया है । आर्य समाज का प्रचलित 

गायत्री मन्त्र है 

” ॐ भूर्भुव: स्व:, तत्सवितुर्वरेण्यम् भर्गो देवस्य 

धीमहि, धियो यो न: प्रचोदयात्”.


शरीर में षट्चक्र हैं जो सात उर्जा बिंदु हैं – मूलाधार चक्र, स्वाधिष्ठान 

चक्र, मणिपूर चक्र, अनाहद चक्र, विशुद्ध चक्र, आज्ञा चक्र एवं सहस्त्रार 

चक्र ये सभी सुषुम्ना नाड़ी से जुड़े हुए है । गायत्री मन्त्र में २४ अक्षर हैं 

जो शरीर की २४ अलग अलग ग्रंथियों को प्रभावित करते हैं और व्यक्ति 

का दिव्य प्रकाश से एकाकार होता है । गायत्री मन्त्र के उच्चारण से 

मानव शरीर के २४ बिन्दुओं पर एक सितार का सा कम्पन होता है 


जिनसे उत्पन्न ध्वनी तरंगे ब्रह्माण्ड में जाकर पुनः हमारे शरीर में 

लौटती है जिसका सुप्रभाव और अनुभूति दिव्य व अलौकिक है।

 ॐ की 

शब्द ध्वनी को ब्रह्म माना गया है । ॐ के उच्च्यारण की ध्वनी तरंगे 

संसार को, एवं ३ अन्य तरंगे सत, रज और तमोगुण क्रमशः ह्रीं श्रीं और 

क्लीं पर अपना प्रभाव डालती है इसके बाद इन तरंगों की कई गूढ़ 

शाखाये और उपशाखाएँ है जिन्हें बीज-मन्त्र कहते है ।

गायत्री मन्त्र के २४ अक्षरों का संयोजन और रचना सकारात्मक उर्जा 

और परम प्रभु को मानव शरीर से जोड़ने और आत्मा की शुद्धि और बल 

के लिए रचा गया है । गायत्री मन्त्र से निकली तरंगे ब्रह्माण्ड में जाकर 

बहुत से दिव्य और शक्तिशाली अणुओं और तत्वों को आकर्षित करके 

जोड़ देती हैं और फिर पुनः अपने उदगम पे लौट आती है जिससे मानव 

शरीर दिव्यता और परलौकिक सुख से भर जाता है । मन्त्र इस प्रकार 

ब्रह्माण्ड और मानव के मन को शुद्ध करते हैं। दिव्य गायत्री मन्त्र की 

वैदिक स्वर रचना के प्रभाव से जीवन में स्थायी सुख मिलता है और 

संसार में असुरी शक्तियों का विनाश होने लगता है । गायत्री मन्त्र जाप 

से ब्रह्म ज्ञान की प्राप्ति होती है । गायत्री मन्त्र से जब आध्यात्मिक और 

आतंरिक शक्तियों का संवर्धन होता है तो जीवन की समस्याए सुलझने 

लगती है वह सरल होने लगता है । हमारे शरीर में सात चक्र और 

72000 नाड़ियाँ है, हर एक नाडी मुख से जुडी हुई है और मुख से निकला 

हुआ हर शब्द इन नाड़ियों पर प्रभाव डालता है । अतः आइये हम सब 

मिलकर वैदिक मंत्रो का उच्चारण करें .. उन्हें समझें और वेद विज्ञान 

को जाने । भारत वर्ष का नव-उत्कर्ष सुनिश्चित करें । 


गायत्री मंत्र ऋग्वेद के छंद 

‘तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात्’ 

3.62.10 और यजुर्वेद के मंत्र ॐ भूर्भुवः स्वः से मिलकर बना है। —


Sri Sri on Modulations of Mind (WISDOM DAWN)

We can handle pent up emotions, if we learn how to handle our mind through our breath. 

This is very important.


In schools we teach dental hygiene, but not mental hygiene. Whether one is a professional 

or a business man, they need to know mental hygiene. 


Huge emotional loads weighs on many people, right from the young mind to senior 

citizens. Neither at school nor home, no one teaches us how to handle our mental or 

emotional pressure. This emotional cleansing, emotional hygiene, or feeling light hearted 

from within needs to be taught, and it can bring about a big transformation in society.

Then you will see a violence-free society, disease-free body, confusion-free mind, inhibition-

free ­ intellect, trauma-free memory and sorrow-free soul, and we can have a better, happier 

and prosperous society.

|| Jai Guru Dev ||



Q: Guruji, what are the modulations of mind?

Sri Sri Ravi Shankar: Maharishi Patanjali has said ‘Yoga Chitta Vrutti Nirodha’ (Yoga is the 

act of restraining or freeing the mind from the clutches of its modulations). There are five 

types of modulations of the mind, which can be painful or not painful. The first modulation 

is Pramaana – always thinking if this is right or wrong, wanting proof for everything. There 

are 3 kinds of proof the mind looks for- Pratyaksha (experiential proof), Anumaana 

(inferential proof) and Agama (scriptural proof). The second modulation is Viparyaya – 

wrong understanding. We spend three-fourths of our time in Viparyaya. Either our opinions 

about people will be wrong or their opinions about us will be wrong. You think one person 

is bad and another person is good, but your opinions change after some time. Not knowing 

things as they are is Viparyaya. The third modulation is Vikalpa – imagination, hallucination. 

It is imagining something that is non-existent. Some people imagine that something has 

happened to them and become afraid. A twenty-year-old youth had come to me. Though 

he was healthy, he felt that he had a lot of diseases. Doctors checked him and found that 

everything was fine, but he still wouldn’t believe it. Illusion about the existence of 

something that is non-existent is Vikalpa. The fourth modulation is Nidra – Sleep. If you are 

not doing anything, you feel sleepy. Nowadays, people sleep even when they are working! 

A lot of people in the parliament are seen sleepy and yawning. The fifth modulation is 

Smruti – Memory, remembering all that has happened in the past. We have to become free 

from these five modulations. Only then does the mind become pleasant. How is that 

possible? It is possible through Pranayama and by being aware that all that has happened 

so far is like a dream. You brushed your teeth, took bath and ate breakfast in the morning. 

At this moment, look back and see, you will feel that they are like a dream. Similarly, some 

more decades will pass, and some days will be good and some days will not be so good. 

We need to observe ourselves if we are able to keep our mind balanced through the ups 

and downs. This is Yoga. ‘Tada Drusthu Swarupe Awasthanam’ – the seer reposes in the 

self.

Q: Guruji, Please tell us what is so special about the tip of the nose?

Sri Sri : All the sensory nerves end in the tip of the nose. There are two points that are important for alertness and focus of the brain – the ear lobes and tip of the nose. They are the marma points. These are the secret points. If you keep your attention on the tip of the nose, your focus improves, especially for children. In the Jain tradition, they can multiply 100 numbers (avadhan). They focus on the tip of the nose. It’s amazing! They are faster than computers. Shathavadhanis, as they are called.

Avadhan is the technique of holding memories in your consciousness. It is like a photographic memory. People who follow this technique, Avadhanis, can tell you what date was Tuesday in 1700. This knowledge was systematically erased. That is the unfortunate part.

फालतुगिरी

हम भारतीयों के कुछ विशेष पहिचान !!

1. हम बिना प्याज, हरी मिर्च या चटनी के कुछ नहीं खा सकते।

2. हम गिफ़्ट रैपिंग पेपर, गिफ़्ट बॉक्स को संभाल कर रखते हैं दुबारा इस्तेमाल के लिये।

3.हम एयरपोर्ट पर 2 बड़े सुटकेस के साथ दिखेंगे।

4. हम किसी भी पार्टी में 2 घंटे देर से जाने को सामान्य मानते हैं।

5. हमारे बच्चो के कई पुकारु नाम होते हैं, जिनका असली नाम से कोई रिश्ता नहीं होता।

6. हम किसी के घर से निकल कर एक घंटे तक उसके दरवाजे पर खड़ा हो कर बात करते हैं।

7. हम परिवार के साथ कहीं जायेंगे तो कार में उसकी क्षमता से अधिक, अधिकतम जितना हो सके उतने अधिक सदस्यों को ठूसेगे ।

8. हम घर के सभी नये सामान (टी.वी., डी.वी.डी., रिमोर्ट, कंप्युटर, आदि) को प्लास्टिक लगा कर रखना पसंद करते हैं।

9.अगर कोई लड़की अपनी बेटी ना हो तो, वो किसके साथ भागी, किसका किसके साथ अफ़ेयर है, आदि बातों में विशेष रुचि लेते हैं.

10.अगर बच्चे हम से दुर रहते हैं तोरात को 12 बजे भी फ़ोन में बात होगी तो ये जरुर पुछेंगे की खाना खाया या नहीं।

11.हम सोफ़ा को गंदा होने से बचाने के लिये उस पर बेड शीट डाल कर रखेंगे भले वो बैठते ही नीचे सरक जाये ।

12.शादी में 500 से कम व्यक्तियों को बुलाये बिना नहीं रह सकते क्यों की ऐसा करने से शादी में प्लेट के लिए मचने वाली भगदड़ खाने का स्वाद बढ़ा देती है ।

13. दुसरो के व्यक्तिगत मुद्दे में टांग अड़ाना हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है।

14. ऐसी बाते पढ़ कर हमे बहुत मजा आताहै, क्योंकि ये सब हमारी ज़िंदगी का हिस्सा है।