संस्कृति – अँग्रेजी चिन्दियों मे सिसकती हिन्दी

Published: Wednesday, Jun 27,2012, 17:42 IST
प्रश्न सीधा-सहज था मगर मुझे चौंका गया…… एक विदेशी मित्र भारत आए। भारत में भारत को ना पाकर हैरान थे किन्तु उससे भी अधिक हिन्दी की चिन्दियों को देख परेशान थे। पहले एक अमेरिकन इंग्लिश इंस्टीट्यूट का विज्ञापन और उसके पश्चात मॉल में चिटपिट slang अँग्रेजी में गपियाते ‘इंडियन यूथ’ (भारतीय युवा कहूँ तो शायद ये ‘यूथ’ बुरा मान जाएँ!) को देख मुझसे पूछ बैठे- “आपके स्नातक पश्चिम के गँवारों की slang (अपशब्द व गलत उच्चारण युक्त भाषा) सीखते हैं? वह भी फीस देकर?”

“अन्य भाषाओं से नए शब्द सीखना ठीक है। भाषा समृद्ध होती है। मगर ये कौनसी भाषा है जो संस्कृतियों की बजाय फूहड़ता ढोती है?”
मैं क्या कहती? खिसियाकर बोली- “यह गँवारों की भाषा ही हमारे कॉल सेंटर्स मे धन बरसाती है। हाँ ये अलग बात है कि धन के साथ अक्सर ‘गँवारो’ की गालियां भी लाती है। तो क्या हुआ जो हम अपनी पहचान खो रहे हैं? आखिर हम ‘ग्लोबल’ हो रहे हैं। “यह वैश्वीकरण यानि ग्लोबलाइज़ेशन का सच है। देश में एक बहुत बड़ा वर्ग है जो हिन्दी अथवा किसी अन्य भारतीय भाषा मे बात करना कमतरी मानता है। जो जितनी कम और अशुद्ध हिन्दी बोले वह उतना ही होशियार!


कभी जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में आयें तो आप सोच मे पड़ जाएंगे कि कहीं जयपुर की जगह त्रुटिवश लंदन तो नहीं उतर गए? भारत के इस विशालतम साहित्य उत्सव में चारों दिन गुलजार साहब व जावेद अख्तर के अतिरिक्त कोई और आपको हिन्दी बोलता दिख जाए तो समझ लीजिए कि आप कोई उबाऊ व्याख्यान सुनते हुए सो गए हैं और सपने में लोगों को हिन्दी बोलते देख रहे हैं। मुझे याद है मैंने वहाँ मराठी नाट्य पर अँग्रेजी में हो रही बकवास को झेला था। नाट्य गायब था, मराठी भी। कुछ था तो बस ‘U Know, Ya…Ya, I think, obviously’ सरीखे निरर्थक शब्द।

अँग्रेजी ने बुद्ध को बुद्धा बना दिया, योग को योगा। मुखोपध्याय, सूट-टाई पहनकर मुखर्जी हो लिए और श्रीवास्तव बन गए श्रीवास्तवाज़। अब तो अरोड़ा भी अरोरा कहलाते हैं। देसाई जी खुद को ‘दिस्साई’ कहकर इतराते हैं। बच्चे अब चंदा मामा नहीं, मून देखते हैं। गैया ‘काऊ’ और चिया ‘स्पैरो’ बन गई है। भाषा व्याकरण ऐसा गड़बड़ाया कि अब “आँधी आता है तो पेड़ गिरती है।”, राष्ट्र आगे बढ़ता नहीं, ‘बढ़ती’ है।

बिना सोचे समझे नकल की हद्द तो तब हो जाती है जब किसी की गलती को हम शिरोधार्य कर अनुकरणीय मान लेते हैं। मसलन अँग्रेजी की नकल में आजकल एक नया चलन निकल पड़ा है- ‘ण’ को ‘न’ कहने का। चूंकि अँग्रेजी में ‘ण’ व्यंजन है ही नहीं। अब जिस शब्द को अंग्रेज़ नहीं उच्चारित कर पाते, उस शब्द को हमारे अँग्रेज़ीदाँ नकलची उच्चारित करने की हिमाकत आखिर कैसे करें?  सो वे भी प्राण को प्रान, करण को करन कहकर काम चलाते हैं। इन्हे चलचित्र (मूवी) ‘रावण’ और ‘रा-वन’ मे अंतर ‘अभिषेक वाली रावन’ और ‘शाहरुख वाली रावन’ से करना पड़ता है। संस्कृत या तत्सम-हिन्दी की तो बात ही ना करें। क्षितिज किसी तरह सितिज के रूप मे मुँह से निकल पाता है। सोच रही हूँ कि किसी दिन अमेरिकन लोग शब्दों की भाषा छोडकर पशुओं की तरह गुर्राना प्रारम्भ कर दें तो क्या हमारे नकलची भी ऐसा ही करेंगे?

खेद होता है यह सोचकर कि ब्रिटिश गुलामी अब भाषा के रूप मे भारत को ग्रस रही है। देश में देशी भाषाओं की अवहेलना हो रही है। हिन्दी की दयनीय अवस्था देखिये कि किसी शर्मिंदगी वाली करतूत पर लोग झिड़कते हैं- “हमारी हिन्दी मत करा।”

भाषाशास्त्रियों का यह तर्क सही है कि कुछ अँग्रेजी शब्दों को आत्मसात करने से हिन्दी समृद्ध होगी किन्तु शब्द आत्मसात करने की बजाय हम तो देशी शब्दों को त्याग कर उनकी जगह अँग्रेजी शब्द प्रतिस्थापित कर रहे हैं। इस प्रकार हम अपना समृद्ध भाषा-कोष गँवाते जा रहे हैं। यह तो ऐसा ही हुआ मानो कोई जानबूझ कर अपना करोड़ों का खज़ाना कुएं में डाल, भिखारी बन जाए क्योंकि भिखारी बनना प्रचलन (फैशन) में आ गया है।
भाषा को प्रवाहयमान रखने के लिए नए शब्दों की खोज तथा अन्य भाषाओं को आत्मसात करना आवश्यक है। इसके लिए हम विदेशी शब्दों के साथ साथ भारतीय देशज शब्द अर्थात विभिन्न भारतीय भाषाओं के सुंदर मीठे शब्द तथा वर्ण भी अपना सकते हैं। जैसे राजस्थानी तथा मराठी में मूल संस्कृत का एक स्वतंत्र व्यंजन ‘ळ’ आज भी विद्यमान है जो कि हिन्दी भुला चुकी है। (जी हाँ, शिवसेना प्रमुख का सही नाम बाल ठाकरे नहीं, बाळ ठाकरे है।)

अँग्रेजी भाषा पर अधिकार अच्छी बात है किन्तु अधिकार की जगह हमारी इस नकल को देखते हुए कहीं विश्व हमे नकलची बंदर का खिताब ना दे बैठे!

आइये, सोचें ज़रा….


Advertisements

संस्कृति -The Great Ratan Tata Part 2

Why Ratan Tata’s name is not on the billionaires list

Here is a Real Story of Ratan Tata:
So many people around the world want to know that “What is the Net Worth of Ratan Tata”?

TATA Group is running 96 businesses and out of which 28 Companies are publicly listed on the various stock exchanges.
Tata Group is world’s top 50 Group according to Market capitalization and Reputation.
Have you ever thought why Ratan Tata’s name is not in the list of billionaire’ s club? why Ratan Tata is not a billionaire on the Forbes magazine list of billionaire people of the world?

The reason is that, TATA Group’s 96 companies are held by its main Company “TATA Sons” and the main owner of this TATA Sons is not Ratan Tata but various charitable organizations developed and run by TATA Group.

Out of which JRD TATA Trust & Sir Ratan Tata Trust are the main. 65% ownership of TATA Sons which is the key holding company of the other 96 TATA Group Company is held by various charitable organizations.

So this 65% ownership ownership of Tata sons Limited is not reflected on Ratan Tata’s personal Financial Statement but on the various charitable organizations. and this is the reason why Ratan Tata is not in the list
of Billionaire club..

if we put this 65% ownership of Tata Sons in Ratan Tata’s own personal financial statement then Ratan Tata’s Net worth can become more than $ 70 billion. and that’s much more than the Warren Buffet’s Current Net Worth of $ 62 billion, the world’s richest person according to Forbes magazine 2008.
However, it doesn’t mean that Ratan Tata is poor. In one interviews he had told the reporter that, “I have my own Capital”. He is the chairman of Tata Group so obviously he earns lots of money every year as a bonus, remuneration and salary. However, Ratan Tata’s Net worth is not $ 1 Billion.

He is not a billionaire on paper. but in reality he is the richest person of the world. His net worth in reality is more than Bill Gates and Warren Buffet.

SO the good thing about Tata Group is that, They do Charity out of their Money…

And that is the reason TATA Group has generated so much of Goodwill over last 5 generations.

संस्कृति -The Great RATAN TATA PART-1

What Ratan Tata did for the Mumbai victims…. what every Indian should know!

Ratan Tata is the chairman of Indian Hotels who own the Taj Mahal Hotel Mumbai, which was the target of the terrorists on 26/11/08.

Hotel President a 5 star property also belongs to Indian Hotels.

The following is really touching.

What Ratan Tata did for the Mumbai victims…. Don’t miss!!!!!!

SALUTE TO MR. RATAN TATA

A. The Tata Gesture

1. All category of employees including those who had completed even 1 day as casuals were treated on duty during the time the hotel was closed.

2. Relief and assistance to all those who were injured and killed

3. The relief and assistance was extended to all those who died at the railway station, surroundings including the “Pav- Bha ji” vendor and the pan shop owners.

4. During the time the hotel was closed, the salaries were sent by money order.

5. A psychiatric cell was established in collaboration with Tata Institute of Social Sciences to counsel those who needed such help.

6. The thoughts and anxieties going on people’s mind was constantly tracked and where needed psychological help provided.

7. Employee outreach centers were opened where all help, food, water, sanitation, first aid and counseling was provided. 1600 employees were covered by this facility.

8. Every employee was assigned to one mentor and it was that person’s responsibility to act as a “single window” clearance for any help that the person required.

9. Ratan Tata personally visited the families of all the 80 employees who in some manner – either through injury or getting killed – were affected.

10. The dependents of the employees were flown from outside Mumbai to Mumbai and taken care off in terms of ensuring mental assurance and peace. They were all accommodated in Hotel President for 3 weeks.

11. Ratan Tata himself asked the families and dependents – as to what they wanted him to do.

12. In a record time of 20 days, a new trust was created by the Tatas for the purpose of relief of employees.

13. What is unique is that even the other people, the railway employees, the police staff, the pedestrians who had nothing to do with Tatas were covered by compensation. Each one of them was provided subsistence allowance of Rs. 10K per month for all these people for 6 months.

14. A 4 year old granddaughter of a vendor got 4 bullets in her and only one was removed in the Government hospital. She was taken to Bombay hospital and several lacs were spent by the Tatas on her to fully recover her.

15. New hand carts were provided to several vendors who lost their carts.

16. Tata will take responsibility of life education of 46 children of the victims of the terror.

17. This was the most trying period in the life of the organization. Senior managers including Ratan Tata were visiting funeral to funeral over the 3 days that were most horrible.

18. The settlement for every deceased member ranged from Rs. 36 to 85 lacs [One lakh rupees tranlates to approx 2200 US $ ] in addition to the following benefits:

a. Full last salary for life for the family and dependents;

b. Complete responsibility of education of children and dependents – anywhere in the world.

c. Full Medical facility for the whole family and dependents for rest of their life.

d. All loans and advances were waived off – irrespective of the amount.

e. Counselor for life for each person

B. Epilogue

1. How was such passion created among the employees? How and why did they behave the way they did?

2. The organization is clear that it is not something that someone can take credit for. It is not some training and development that created such behaviour. If someone suggests that – everyone laughs

3. It has to do with the DNA of the organization, with the way Tata culture exists and above all with the situation that prevailed that time. The organization has always been telling that customers and guests are #1 priority

4. The hotel business was started by Jamshedji Tata when he was insulted in one of the British hotels and not allowed to stay there.

5. He created several institutions which later became icons of progress, culture and modernity. IISc is one such institute. He was told by the rulers that time that he can acquire land for IISc to the extent he could fence the same. He could afford fencing only 400 acres.

6. When the HR function hesitatingly made a very rich proposal to Ratan – he said – do you think we are doing enough?

7. The whole approach was that the organization would spend several hundred crore in re-building the property – why not spend equally on the employees who gave their life?

This is NOT COVERED BY Any NEWS CHANNELS ! (Paise Dekar news Nhi Banayi Hai Ye Reality Hai Doston)

संस्कृति -लाल किला शाहजहाँ से भी कई शताब्दी पहले प्रथवीराज चौहान द्वारा बनवाया हुवा लाल कोट है

दिल्ली का लाल किला शाहजहाँ से भी कई शताब्दी पहले प्रथवीराज चौहान द्वारा बनवाया हुवा लाल कोट है —–

क्या कभी किसी ने सोचा है की इतिहास के नाम पर हम झूठ क्यों पढ़ रहे है?? सारे प्रमाण होते हुए भी झूठ को सच
क्यों बनाया जा रहा है?? हम हिंदुओं की बुधि की आज ऐसी दशा हो गयी है की अगरएक आदमी की पीठ मे खंजर मार कर हत्या कर
दी गयी हो और उसको आत्महत्या घोषित कर दिया जाए तो कोई भी ये भी सोचने का प्रयास नही करेगा की कोई आदमी खुद की पीठ मे खंजर कैसे मार सकता है….यही हाल है हम सब का की सच देख कर भी झूठ को सच माना फ़ितरत बना ली है हमने….. **दिल्ली का लाल किला शाहजहाँ से भी कई शताब्दी पहले प्रथवीराज चौहान द्वारा बनवाया हुवा लाल कोट है** जिसको शाहजहाँ ने पूरी तरह से नष्ट करने की असफल कोशिश करी थी ताकि वो उसके द्वारा बनाया साबित हो सके..लेकिन सच सामने
आ ही जाता है. *इसके पूरे साक्ष्या प्रथवीराज रासो से मिलते है

*शाहजहाँ से २५० वर्ष पहले १३९८ मे तैमूर लंग ने पुरानी दिल्ली का उल्लेख करा है (जो की शाहजहाँ द्वारा बसाई बताई जाती है)
*सुवार (वराह) के मूह वेल चार नल अभी भी लाल किले के एक खास महल मे लगे है. क्या ये शाहजहाँ के इस्लाम का प्रतीक चिन्ह है
या हमारे हिंदुटवा के प्रमाण??
*किले के एक द्वार पर बाहर हाथी की मूर्ति अंकित है राजपूत राजा लोग गजो( हाथियों ) के प्रति अपने प्रेम के लिए विख्यात थे ( इस्लाम मूर्ति का विरोध करता है) * दीवाने खास मे केसर कुंड नाम से कुंड बना है जिसके फर्श पर हिंदुओं मे पूज्य कमल पुष्प
अंकित है, केसर कुंड हिंदू शब्दावली है जो की हमारे राजाओ द्वारा केसर जल से भरे स्नान कुंड के लिए प्रयुक्त होती रही है
* मुस्लिमों के प्रिय गुंबद या मीनार का कोई भी अस्तित्वा नही है दीवानेकहास और दीवाने आम मे. *दीवानेकहास के ही निकट राज
की न्याय तुला अंकित है , अपनी प्रजा मे से ९९% भाग को नीच समझने वाला मुगल कभी भी न्याय तुला की कल्पना भी नही कर
सकता, ब्राह्मानो द्वारा उपदेषित राजपूत राजाओ की न्याय तुला चित्र से प्रेरणा लेकर न्याय करना हमारे इतिहास मे प्रसीध है
*दीवाने ख़ास और दीवाने आम की मंडप शैली पूरी तरह से 984 के अंबर के भीतरी महल (आमेर–पुराना जयपुर) से मिलती है
जो की राजपूताना शैली मे बना हुवा है 

*लाल किले से कुछ ही गज की दूरी पर बने देवालेय जिनमे से एक लाल जैन मंदिर और  दूसरा गौरीशंकार मंदिर दोनो ही गैर मुस्लिम
है जो की शाहजहाँ से कई शताब्दी पहले राजपूत राजाओं ने बनवाए हुए है.

 *लाल किले का मुख्या बाजार चाँदनी चौक केवल हिंदुओं से घिरा हुवा है, समस्त पुरानी दिल्ली मे अधिकतर आबादी हिंदुओं की ही है, सनलिष्ट और घूमाओदार शैली के मकान भी हिंदू शैली के ही है ..क्या शाजहाँ जैसा धर्मांध व्यक्ति अपने किले के आसपास अरबी, फ़ारसी, तुर्क, अफ़गानी के बजे हम हिंदुओं के लिए मकान बनवा कर हमको अपने पास बसाता ???
*एक भी इस्लामी शिलालेख मे लाल किले का वर्णन नही है
*””गर फ़िरदौस बरुरुए ज़मीं अस्त, हमीं अस्ता,
हमीं अस्ता, हमीं अस्ता””–अर्थात इस धरती पे अगर कहीं स्वर्ग है तो यही है, यही है, यही है….इस अनाम शिलालेख
को कभी भी किसी भवन का निर्मांकर्ता नही लिखवा सकता .. और ना ही ये किसी के निर्मांकर्ता होने का सबूत देता है इसके अलावा अनेकों ऐसे प्रमाण है जो की इसके लाल कोट होने का प्रमाण देते है, और ऐसे ही हिंदू राजाओ के सारे प्रमाण नष्ट करके हिंदुओं का नाम ही इतिहास से हटा दिया गया है, अगर हिंदू नाम आता है तो केवल नष्ट होने वाले शिकार के रूप मे……ताकि हम हमेशा ही अहिंसा और शांति का पाठ पढ़ कर इस झूठे इतिहास से प्रेरणा ले सके…सही है ना???..लेकिन कब तक
अपने धर्म को ख़तम करने वालो की पूजा करते रहोगे और खुद के सम्मान को बचाने वाले महान
हिंदू शासकों के नाम भुलाते रहोगे..ऐसे ????????????


संस्कृति -A discussion between Indian and Bhartiya (भारतीय और इंडियन)

यहाँ दो पात्र हैं : एक है भारतीय और एक है इंडियन ! आइए देखते हैं दोनों में क्या बात होती है !

इंडियन : ये शिव रात्रि पर जो तुम इतना दूध चढाते हो शिवलिंग पर, इस से अच्छा तो ये हो कि ये दूध जो बहकर नालियों में बर्बाद हो जाता है, उसकी बजाए गरीबों मे बाँट दिया जाना चाहिए ! तुम्हारे शिव जी से ज्यादा उस दूध की जरुरत देश के गरीब लोगों को है. दूध बर्बाद करने की ये कैसी आस्था है ?

भारतीय : सीता को ही हमेशा अग्नि परीक्षा देनी पड़ती है, कभी रावण पर प्रश्न चिन्ह क्यूँ नहीं लगाते तुम ?

इंडियन : देखा ! अब अपने दाग दिखने लगे तो दूसरों पर ऊँगली उठा रहे हो ! जब अपने बचाव मे कोई उत्तर नहीं होता, तभी लोग दूसरों को दोष देते हैं. सीधे-सीधे क्यूँ नहीं मान लेते कि ये दूध चढाना और नालियों मे बहा देना एक बेवकूफी से ज्यादा कुछ नहीं है !

भारतीय : अगर मैं आपको सिद्ध कर दूँ की शिवरात्री पर दूध चढाना बेवकूफी नहीं समझदारी है तो ?

इंडियन : हाँ बताओ कैसे ? अब ये मत कह देना कि फलां वेद मे ऐसा लिखा है इसलिए हम ऐसा ही करेंगे, मुझे वैज्ञानिक तर्क चाहिएं.

भारतीय : ओ अच्छा, तो आप विज्ञान भी जानते हैं ? कितना पढ़े हैं आप ?

इंडियन : जी, मैं ज्यादा तो नहीं लेकिन काफी कुछ जानता हूँ, एम् टेक किया है, नौकरी करता हूँ. और मैं अंध विशवास मे बिलकुल भी विशवास नहीं करता, लेकिन भगवान को मानता हूँ.

भारतीय : आप भगवान को मानते तो हैं लेकिन भगवान के बारे में जानते नहीं कुछ भी. अगर जानते होते, तो ऐसा प्रश्न ही न करते ! आप ये तो जानते ही होंगे कि हम लोग त्रिदेवों को मुख्य रूप से मानते हैं : ब्रह्मा जी, विष्णु जी और शिव जी (ब्रह्मा विष्णु महेश) ?

इंडियन : हाँ बिलकुल मानता हूँ.

भारतीय : अपने भारत मे भगवान के दो रूपों की विशेष पूजा होती है : विष्णु जी की और शिव जी की ! ये शिव जी जो हैं, इनको हम क्या कहते हैं – भोलेनाथ, तो भगवान के एक रूप को हमने भोला कहा है तो दूसरा रूप क्या हुआ ?

इंडियन (हँसते हुए) : चतुर्नाथ !

भारतीय : बिलकुल सही ! देखो, देवताओं के जब प्राण संकट मे आए तो वो भागे विष्णु जी के पास, बोले “भगवान बचाओ ! ये असुर मार देंगे हमें”. तो विष्णु जी बोले अमृत पियो. देवता बोले अमृत कहाँ मिलेगा ? विष्णु जी बोले इसके लिए समुद्र मंथन करो !

तो समुद्र मंथन शुरू हुआ, अब इस समुद्र मंथन में कितनी दिक्कतें आई ये तो तुमको पता ही होगा, मंथन शुरू किया तो अमृत निकलना तो दूर विष निकल आया, और वो भी सामान्य विष नहीं हलाहल विष !
भागे विष्णु जी के पास सब के सब ! बोले बचाओ बचाओ !

तो चतुर्नाथ जी, मतलब विष्णु जी बोले, ये अपना डिपार्टमेंट नहीं है, अपना तो अमृत का डिपार्टमेंट है और भेज दिया भोलेनाथ के पास !
भोलेनाथ के पास गए तो उनसे भक्तों का दुःख देखा नहीं गया, भोले तो वो हैं ही, कलश उठाया और विष पीना शुरू कर दिया !
ये तो धन्यवाद देना चाहिए पार्वती जी का कि वो पास में बैठी थी, उनका गला दबाया तो ज़हर नीचे नहीं गया और नीलकंठ बनके रह गए.

इंडियन : क्यूँ पार्वती जी ने गला क्यूँ दबाया ?

भारतीय : पत्नी हैं ना, पत्नियों को तो अधिकार होता है ..:P किसी गण की हिम्मत होती क्या जो शिव जी का गला दबाए……अब आगे सुनो
फिर बाद मे अमृत निकला ! अब विष्णु जी को किसी ने invite किया था ????
मोहिनी रूप धारण करके आए और अमृत लेकर चलते बने.

और सुनो –
तुलसी स्वास्थ्य के लिए अच्छी होती है, स्वादिष्ट भी, तो चढाई जाती है
कृष्ण जी को (विष्णु अवतार).

लेकिन बेलपत्र कड़वे होते हैं, तो चढाए जाते हैं भगवान भोलेनाथ को !

हमारे कृष्ण कन्हैया को 56 भोग लगते हैं, कभी नहीं सुना कि 55 या 53 भोग लगे हों, हमेशा 56 भोग !
और हमारे शिव जी को ? राख , धतुरा ये सब चढाते हैं, तो भी भोलेनाथ प्रसन्न !

कोई भी नई चीज़ बनी तो सबसे पहले विष्णु जी को भोग !
दूसरी तरफ शिव रात्रि आने पर हमारी बची हुई गाजरें शिव जी को चढ़ा दी जाती हैं……

अब मुद्दे पर आते हैं……..इन सबका मतलब क्या हुआ ???

_________________________________________________________________
विष्णु जी हमारे पालनकर्ता हैं, इसलिए जिन चीज़ों से हमारे प्राणों का रक्षण-पोषण होता है वो विष्णु जी को भोग लगाई जाती हैं !
_________________________________________________________________

और शिव जी ?

__________________________________________________________________
शिव जी संहारकर्ता हैं, इसलिए जिन चीज़ों से हमारे प्राणों का नाश होता है, मतलब जो विष है, वो सब कुछ शिव जी को भोग लगता है !
_________________________________________________________________

इंडियन : ओके ओके, समझा !

भारतीय : आयुर्वेद कहता है कि वात-पित्त-कफ इनके असंतुलन से बीमारियाँ होती हैं और श्रावण के महीने में वात की बीमारियाँ सबसे ज्यादा होती हैं. श्रावण के महीने में ऋतू परिवर्तन के कारण शरीर मे वात बढ़ता है. इस वात को कम करने के लिए क्या करना पड़ता है ?
ऐसी चीज़ें नहीं खानी चाहिएं जिनसे वात बढे, इसलिए पत्ते वाली सब्जियां नहीं खानी चाहिएं !

और उस समय पशु क्या खाते हैं ?

इंडियन : क्या ?

भारतीय : सब घास और पत्तियां ही तो खाते हैं. इस कारण उनका दूध भी वात को बढाता है ! इसलिए आयुर्वेद कहता है कि श्रावण के महीने में (जब शिवरात्रि होती है !!) दूध नहीं पीना चाहिए.
इसलिए श्रावण मास में जब हर जगह शिव रात्रि पर दूध चढ़ता था तो लोग समझ जाया करते थे कि इस महीने मे दूध विष के सामान है, स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है, इस समय दूध पिएंगे तो वाइरल इन्फेक्शन से बरसात की बीमारियाँ फैलेंगी और वो दूध नहीं पिया करते थे !
इस तरह हर जगह शिव रात्रि मनाने से पूरा देश वाइरल की बीमारियों से बच जाता था ! समझे कुछ ?

इंडियन : omgggggg !!!! यार फिर तो हर गाँव हर शहर मे शिव रात्रि मनानी चाहिए, इसको तो राष्ट्रीय पर्व घोषित होना चाहिए !

भारतीय : हम्म….लेकिन ऐसा नहीं होगा भाई कुछ लोग साम्प्रदायिकता देखते हैं, विज्ञान नहीं ! और सुनो. बरसात में भी बहुत सारी चीज़ें होती हैं लेकिन हम उनको दीवाली के बाद अन्नकूट में कृष्ण भोग लगाने के बाद ही खाते थे (क्यूंकि तब वर्षा ऋतू समाप्त हो चुकी होती थी). एलोपैथ कहता है कि गाजर मे विटामिन ए होता है आयरन होता है लेकिन आयुर्वेद कहता है कि शिव रात्रि के बाद गाजर नहीं खाना चाहिए इस ऋतू में खाया गाजर पित्त को बढाता है !
तो बताओ अब तो मानोगे ना कि वो शिव रात्रि पर दूध चढाना समझदारी है ?

इंडियन : बिलकुल भाई, निःसंदेह ! ऋतुओं के खाद्य पदार्थों पर पड़ने वाले प्रभाव को ignore करना तो बेवकूफी होगी.

भारतीय : ज़रा गौर करो, हमारी परम्पराओं के पीछे कितना गहन विज्ञान छिपा हुआ है ! ये इस देश का दुर्भाग्य है कि हमारी परम्पराओं को समझने के लिए जिस विज्ञान की आवश्यकता है वो हमें पढ़ाया नहीं जाता और विज्ञान के नाम पर जो हमें पढ़ाया जा रहा है उस से हम अपनी परम्पराओं को समझ नहीं सकते !

जिस संस्कृति की कोख से मैंने जन्म लिया है वो सनातन (=eternal) है, विज्ञान को परम्पराओं का जामा इसलिए पहनाया गया है ताकि वो प्रचलन बन जाए और हम भारतवासी सदा वैज्ञानिक जीवन जीते रहें !

संस्कृति -पता नहीं भारत में कब और कैसे ये छुआ-छूत का विषधर सांप घुस गया?

पता नहीं भारत में कब और कैसे ये छुआ-छूत का विषधर सांप घुस गया? पूर्वाग्रहों को छोड़ कर ज़रा तथ्यों व प्रमाणों की रोशनी में देखें तो पता चलता है कि भारत में जातियां तो थीं पर छुआ- छूत नहीं. स्वयं अंग्रेजों के द्वारा दिए आंकड़े इसके प्रमाण हैं.

भारत को कमज़ोर बनाने की अनेक चालें चलने वाले अंग्रेजों ने आंकड़े जुटाने और हमारी कमजोरी व विशेषताओं को जानने के लिए सर्वे करवाए थे. उन सर्वेक्षणों के तथ्यों और आज के झूठे इतिहास के कथनों में ज़मीन आस्मान का अंतर है.

सन १८२० में एडम स्मिथ नामक अँगरेज़ ने एक सर्वेक्षण किया. एक सर्वेक्षण टी. बी. मैकाले ने १८३५ करवाया था. इन सर्वेक्षणों से ज्ञात और अनेक तथ्यों के इलावा ये पता चलता है कि तबतक भारत में अस्पृश्यता नाम की बीमारी नहीं थी.

यह सर्वे बतलाता है कि—

# तब भारत के विद्यालयों में औसतन २६% ऊंची जातियों के विद्यार्थी पढ़ते थे तथा ६४% छोटी जातियों के छात्र थे.

# १००० शिक्षकों में २०० द्विज / ब्राह्मण और शेष डोम जाती तक के शिक्षक थे. स्वर्ण कहलाने वाली जातियों के छात्र भी उनसे बिना किसी भेद-भाव के पढ़ते थे.

# मद्रास प्रेजीडेन्सी में तब १५०० ( ये भी अविश्वसनीय है न ) मेडिकल कालेज थे जिनमें एम्.एस. डिग्री के बराबर शिक्षा दी जाती थी. ( आज सारे भारत में इतने मेडिकल कालेज नहीं होंगे.)

# दक्षिण भारत में २२०० ( कमाल है! ) इंजीनियरिंग कालेज थे जिनमें एम्.ई. स्तर की शीशा दी जाती थी.

# मेडिकल कालेजों के अधिकांश सर्जन नाई जाती के थे और इंजीनियरिंग कालेज के अधिकाँश आचार्य पेरियार जाती के थे. स्मरणीय है कि आज छोटी जाती के समझे जाने वाले इन पेरियार वास्तुकारों ने ही मदुरई आदि दक्षिण भारत के अद्भुत वास्तु वाले मंदिर बनाए हैं.

# तब के मद्रास के जिला कलेक्टर ए.ओ.ह्युम ( जी हाँ, वही कांग्रेस संस्थापक) ने लिखित आदेश निकालकर पेरियार वास्तुकारों पर रोक लगा दी थी कि वे मंदिर निर्माण नहीं कर सकते. इस आदेश को कानून बना दिया था.

# ये नाई सर्जन या वैद्य कितने योग्य थे इसका अनुमान एक घटना से हो जाता है. सन १७८१ में कर्नल कूट ने हैदर अली पर आक्रमण किया और उससे हार गया . हैदर अली ने कर्नल कूट को मारने के बजाय उसकी नाक काट कर उसे भगा दिया. भागते, भटकते कूट बेलगाँव नामक स्थान पर पहुंचा तो एक नाई सर्जन को उसपर दया आगई. उसने कूट की नई नाक कुछ ही दिनों में बनादी. हैरान हुआ कर्नल कूट ब्रिटिश पार्लियामेंट में गया और उसने सबने अपनी नाक दिखा कर बताया कि मेरी कटी नाक किस प्रकार एक भारतीय सर्जन ने बनाई है. नाक कटने का कोई निशान तक नहीं बचा था. उस समय तक दुनिया को प्लास्टिक सर्जरी की कोई जानकारी नहीं थी. तब इंग्लॅण्ड के चकित्सक उसी भारतीय सर्जन के पास आये और उससे शल्य चिकित्सा, प्लास्टिक सर्जरी सीखी. उसके बाद उन अंग्रेजों के द्वारा यूरोप में यह प्लास्टिक सर्जरी पहुंची.

### अब ज़रा सोचें कि भारत में आज से केवल १७५ साल पहले तक तो कोई जातिवाद याने छुआ-छूत नहीं थी. कार्य विभाजन, कला-कौशल की वृद्धी, समृद्धी के लिए जातियां तो ज़रूर थीं पर जातियों के नाम पर ये घृणा, विद्वेष, अमानवीय व्यवहार नहीं था. फिर ये कुरीति कब और किसके द्वारा और क्यों प्रचलित कीगई ? हज़ारों साल में जो नहीं था वह कैसे होगया? अपने देश-समाज की रक्षा व सम्मान के लिए इस पर खोज, शोध करने की ज़रूरत है. यह अमानवीय व्यवहार बंद होना ही चाहिए और इसे प्रचलित करने वालों के चेहरों से नकाब हमें हटनी चाहिए. साथ ही बंद होना चाहिए ये भारत को चुन-चुन कर लांछित करने के, हीनता बोध जगाने के सुनियोजित प्रयास. हमें अपनी कमियों के साथ-साथ गुणों का भी तो स्मरण करते रहना चाहिए जिससे समाज हीन ग्रंथी का शिकार न बन जाये. यही तो करना चाह रहे हैं हमारे चहने वाले, हमें कजोर बनाने वाले. उनकी चाल सफ़ल करने में‚ सहयोग करना है या उन्हें विफ़ल बनाना है? ये ध्यान रहे