कविता : नियति

कविता : नियति

हर रात मेरे बिस्‍‍तर पर आकर लेट जाता है, एक नपुंसक मर्द !

आंखें

अधर

चिबुक

पागलों की तरह चूमते-चूमते,

अपनी दोनों मुट्‍ठियों में भर लेता है-स्‍‍तन!

मुंह में भरकर चूसता रहता है ।

मारे प्‍‍सास के जाग उठता है, मेरा रोम-रोम

मांगते हुए सागर भर पानी, छटपटाता रहता है ।

बालों के अरण्‍‍य में अपनी बेचैन उंगलियां,

उंगलियों की दाह

मुझमें सिर से पांव तक अंगार भरकर,

खेलता है उछालने-लपकने का खेल!

उन पलों में मेरी आधी-अधूरी देह

उस मर्द का तन-बदन कर डालती है चकनाचूर,

मांगते हुए नदी भर पानी, छटपटाता रहता है ।

सिरहाने पूस की पूर्णिमा !

रात बैठी रहती है जगी-जगी

उसकी गोद में सिर रखकर,

करके मुझे उत्‍‍तप्‍‍त,

बनाकर मुझे अंगार

नपुंसक-नामर्द सो जाता है बेसुध!

उन पलों में मेरी समूची देह में जगी-जगी प्‍‍यास,

उस सोए हुए मर्द की मुर्दा देह छूकर,

मांगते हुए बून्द भर पानी, रोती रहती है ।

(तसलीमा नसरीन)

किताब: ‘निर्वासित बाहर-भीतर’ (तसलीमा की जीवनी के तीसरे खंड द्विखंडित में वर्णित)

नोट: तसलीमा के शब्‍‍दों में, ‘निर्वासित बाहर-भीतर’ काव्‍‍य संग्रह में संकलित सभी कविताएं उस दौर में लिखी गई थीं, जब रूद्र से मेरा रिश्‍‍ता, बस, टूटने- टूटने को था । ‘नियति’ कविता भी, रूद्र की किसी हरकत पर ही लिखी गई थी ।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s